Yalgaar Lyrics | Ajey Nagar | Lyricist Wily Frenzy | CarryMinati

Yalgaar Lyrics | Ajey Nagar | Lyricist Wily Frenzy | CarryMinati


Yalgaar lyrics by Ajey Nagar. These Latest Songs Lyrics From Yalgaar.
Presention this video songs by CarryMinati. Music by Wily Frenzy and lyrics penned by Ajey Nagar.


Yalgaar Lyrics


Yalgaar Hindi Songs Karaoke Lyrics Free Download


Yalgaar Lyrics in Hindi


तो कैसे हैं आप लोग
एक कहनी है जो सबको सुनानी है
जलने वालों की तो रूह भी जलनी है
एक कहनी है जो सबको सुनानी है
इनकी भूक भी तो मैंने ही मिटनी है

इनको क्या पता मैंने करी कितनी मेहनत
सारी बातों से था मैं पूरा सहमत
सारी ज़िंदगी इन्होंने मुझको रुलाया
इनको भी तो मिला जो था मैंने कमाया

रोते रोते भी इनका धंधा मैंने चलाया
फिर भी इन्होंने सारा धंधा मेरा खाया
ये सारी इनका माया इनका ही काला साया
विडीओ गिरा के पूरे देश का दिल दुखाया

इन्हें लगता है मैंने एक फ़क़ीर हूँ
अगर ये हाथ है तो मैं इनकी लक़ीर हूँ
जिन हाथों ने है मुझको डुबाया
उन हाथों की तो देख बेटा मैं ज़ंजीर हूँ

इंग्लिश में गाली देने वाले लगते कूल
हिंदी में देने वाले लगते इन्हें फूल
फूल से भरा देख मेरा पूल
तुम होगे यहाँ के प्रिन्सिपल
पर मैं हूँ पूरा स्कूल

एक कहनी है जो सबको सुननी है
जलने वाला की तो रूह भी जलनी है
एक कहनी है जो सबको सुननी है
इनकी भूक भी तो मैंने ही मिटानी है

एक कहनी है जो सबको सुननी है
जलने वाला की तो रूह भी जलनी है
एक कहनी है जो सबको सुननी है
इनकी भूक भी तो मैंने ही मिटानी है

असली दुनिया में क्यों इनको जीना नहीं
विक्टिम कार्ड प्ले करके ख़ून पीना सही
हाँ इनमें फ़र्क़ नहीं, इनका ग़लत भी सही
तभी तो इनकी अपनों से बनती नहीं

रीच रीच रीच इनको चाहिये रीच
प्लीज़ प्लीज़ प्लीज़ सामने करते प्लीज़
बीट बीट बीट इनको करूँगा बीट
हीट हीट हीट मेरा कॉंटेंट है हीट

मैंने ही मिटानी, ये बीमारी
मैंने ही तो जानी, ये बैमानी
मैंने ही मिटानी भ्रस्टाचारि
मैंने ही सम्भाली
मैंने ही सम्भाली ज़िम्मेदारी

सापों से भरा है पूरा ये समंदर
पीठ पीछे मारा है इन्होंने ख़ंजर
इनसे हम सब लड़ेंगे अब मिलकर
इनकी ज़िंदगी अब बनेगी बंजर

लेट’स गो..!
एक कहनी है जो सबको सुनानी है
जलने वालों की तो रूह भी जलनी है
एक कहनी है जो सबको सुनानी है
इनकी भूक भी तो मैंने ही मिटनी है

एक कहनी है जो सबको सुनानी है
जलने वालों की तो रूह भी जलनी है
एक कहनी है जो सबको सुनानी है
इनकी भूक भी तो मैंने ही मिटनी है

यालगार हो
यालगार हो
यालगार हो
यालगार हो..